अशोक जी द्वारा किये गए कार्य

अशोक जी ने हिन्दू सरोकारों की रक्षा करने के साथ-साथ सामाजिक समरसता को बढ़ावा दिया। अशोक जी का यह मानना था कि जब तक बनवासियों, महिलाओं, वंचितों और युवाओं को देश की मुख्यधारा में नहीं शामिल किया जाएगा, तब तक हम अपेक्षित लक्ष्य को नहीं प्राप्त कर पाएंगे। उन्होंने देश भर में बनवासी क्षेत्रों में एकल विद्यालय खुलवाए, महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए केन्द्र खुलवाए और दलितों व वंचितों की बुनियादी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए हर स्तर पर समाज का सहयोग लिया और उन्हें आगे बढ़ाने में मदद की। सामाजिक समरसता के माध्यम से अशोक जी ने मन्दिरों और धार्मिक स्थानों में दलितों को प्रवेश दिलवाया और उनकी सामाजिक प्रगति व उन्नति में बाधक छुआछूत एवं असमानता की प्रथा को समाप्त करने में योगदान दिया। अशोक जी ने बजरंग दल और दुर्गावाहिनी के माध्यम से युवाओं और महिलाओं को हिंदू आंदोलन से जोड़ने का काम किया। साथ ही उन्होंने विभिन्न मतों और संप्रदायों के साधु-संतो को एक मंच पर लाकर सामाजिक समरसता को बढ़ावा देने के लिए व्यापक अभियान छेड़ा।

  • fl-1.jpg
  • fl-2.jpg
  • fl-3.jpg
  • fl-4.jpg
  • fl-5.jpg
  • fl-6.jpg
  • fl-7.jpg